*आज म स्वतान देखरो छू* – Kavita

*आज म स्वतान देखरो छू*

जो छेनी वू दीखेनी
जो छेनी वोनज म का देखरो छू ?
आज म स्वतान देखरो छू!!

मार मजबूरीर म चीत्र बणारो छू
जो पूरो वेनी वोन रंगेती सजारो छू
आन जो खोटो छ
म वोन मार जींदगीम का वसा मेलो छू ? !!

जो छेनी वू दीखेनी
जो छेनी वोनज म का देखरो छू ?
आज म स्वतान देखरो छू!!

पाणीर बूंदेर आवाजेन म वजारो छू
भींजारो छू म पाणीम म आज हांगोळी कररो छू.
वरस भर तो पाणी पडेनी
तो खराब पाणीम म हांगोळी का कररो छू ? !!

जो छेनी वू दीखेनी
जो छेनी वोनज म का देखरो छू ?
आज म स्वतान देखरो छू!!

जीवनेर तारे-मारेम म खेचान जारो छू
हसायेर कोसीसेम म स्वता रोतो जारो छू.
दलेम दख लेन मतो हास सकूनी
पणं म लोकूर मूंडीयांग का हासतो छू ? !!

जो छेनी वू दीखेनी
जो छेनी वोनज म का देखरो छू ?
आज म स्वतान देखरो छू!!

*रविराज एस. पवार*
शांमपुरहळ्ळि तांढो, ता. चित्तापुर
जि. कलबूर्गी, कर्नाटक.
8976305533

Tag : Gor Banjara Kavita, Banjara News, Books

Leave a Reply