गणपति के हवाई दर्शन हुए महंगे

मुंबई। गणपति बप्पा का
आगमन हो चुका है। डेढ़ दिन बाद
गणपति की एक झलक के लिए
पंडालों में भारी भीड़ उमड़ेगी। ऐसे
में ऐसे गणपति भक्तों की भी कमी
नहीं है जिन्हें बाप्पा के दर्शन करने
के लिए अनोखे तरीकों की तलाश
रहती है। इन्हीं में से एक तरीका है
गणेश उत्सव के दौरान बप्पा का
एरियल व्यू यानी आकाश दर्शन
करना। इसके लिए श्रद्धालु महंगी
कीमत चुकाने के लिए भी तैयार
रहते है। उनके इसी शौक को कैश
करती हैं निजी हेलिकॉप्टर
कंपनिय्।ं गणपति विसर्जन के के
दिन आकाश दर्शन करवाने के लिए
ये कंपनियां जॉय राइड आयोजित
करती ह्।ं लगभग आधे घंटे से कम
अवधि की इस राइड के लिए लोगों
को सात हजार से लेकर दस हजार
रुपये तक देने पड़ते है।
इस जॉय राइड के दौरान जुहू
बीच, वर्सोवा बीच से लेकर मढ,
गिरगांव तक मुंबई के सभी खास
बीच कवर किए जाते है। भीड़ में
जाकर गणपति विसर्जन शोभायात्रा
के साक्षी बन पाने में असमर्थ श्रद्धालु
इस हेलिकॉप्टर में बैठकर आकाश
से शोभायात्रा का सिंहावलोकन कर
सकते है। इसके लिए निजी
हेलिकॉप्टर कंपनियां बुकिंग शुरू
कर चुकी ह्।ं
चार्टर शेडय़ूलिंग कंपनी एक्रेशन
एविएशन ने एनबीटी से बात करते
हुए बताया ’हमारी एक राइड लगभग
30 मिनट की होती है, जिसके
लिए इस बार साढ़े सात हजार रुपये
लिए जा रहे हैं। इसमें मढ़, जुहू
और अक्सा बीच की यात्रा शामिल
है। इसके लिए काम में आने वाले
एयर क्राफ्ट तीन सीटर ह्।ं एनबीटी
से बात करते हुए एक्रेशन एविएशन
ने इस साल गणपति एयर दर्शन का
ट्रेंड बढ़ने की वजह से किराए में
बढ़ोतरी की बात स्वीकारी है। एक
अन्य चार्टर हायर कंपनी अमन भी
जुहू एयरपोर्ट से यात्रियों को आधे
घंटे की राइड पर ले जाती है। अगर
गणपति के श्रद्धालुओं के हालिया
ट्रेंड पर गौर किया जाए तो 31
अगस्त और 7 सितंबर (विसर्जन
के एक दिन पहले) पवन हंस स
गणपति के लिए उड़ने वाले सभी
चॉपर बुक हो चुके ह्।ं
गणपति शुभागमन और
विसर्जन की विहंगम छवि निहारने
के लिए एयर क्राफ्ट को जमीन के
काफी नजदीक आना पड़ता है।
ऐसे म oं रिहायशी इलाका oं म oं जमीन
के करीब आने से कोई भी हादसा
हो सकता है। इसी तरह अगर इन
चॉपर से फोटो शूटिंग की जाए तो
भी खतरे कम नहीं है। एविएशन
बिजनेस ऐंड सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
के सीईओ उज्जवल ठेंगडी के
मुताबिक इन राइड के लिए सबसे
अधिक आवश्यक है पायलट का
उचित रूप से प्रशिक्षित होना, साथ
ही इस्ताल किया जाने वाला एयर
क्राफ्ट हमेशा डबल इंजिन होना
चाहिएऑ। गौरतलब है कि सिंगल इंजिन
एयर क्राफ्ट की आपातकालीन
परिस्थिति में अथवा इंजिन फेल हो
जाने पर तुरंत क्रैश होने की संभावना
रहती है। नागरिक उड्डयन नियामक
डीजीसीए द्वारा विशेष विमान किराए
पर लेने के लिए अलग से गाइड
लाइन भी जारी की गईं हैं।

Leave a Reply