संत सेवालाल बापूजी के बोल

बापूजी के बोल:
जैसे-
1. कोई केंनी भजो मत, केंनी पुजो मत; तमच तमारे जीवनेंम वजाळो ला सको छो।
2. डावी (पुरोगामी) बाजूं आयं, ऊ तर जायं। जो जमनीं बाजूं (प्रतिगामी) आयं ऊ खतम वेह जायं।
3. जानजों, छांनजो पछच मानजो। सौतार ओळख सौताच कर लिजो।।
4. चोरी मत करो, केरी लोही मत काढजो, हिंसा मत करो।
दारू मत पिओ, रंडीबाजी मत करो; अनितिती मत चालो।
5. किडी मुंगी, खुंटा मुंगरी; सेन साईं वेहेस।
6. गोर केसुलानाई मोरीयाय, मुई मट्टी सर्जीत करीया।
7. गोर गरीबेन जो दांडन खायं,  वोरी 7 पिढी नरकेम जायं।
8. गौर छो तो गौर करो, गौर संस्कृतिरो (गोरवट) जतन करो।
9. जीवन संसारेम केनीभी नानक्यां मोठो मत समजो।
10. नगारा थाळीरे घोरेम (जागृत) रीहीजो

Tag Sant Sevalal maharaj